यौन शोषण के आरोपों पर एमजे अकबर ने साधी चुप्पी , कहा - बाद में बयान दूंगा

यौन शोषण के आरोपों पर एमजे अकबर ने साधी चुप्पी , कहा - बाद में बयान दूंगा

आरोपों के बाद केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर इस्तीफा देने के लिए लगातार दबाव बढ़ रहा हैं।

Jantantra Tv Desk

October 15,2018 04:49

नई दिल्ली। मी टू अभियान दूनिया भर में जोर पकड़ रहा हैं। मी टू अभियान के तहत महिलाएं अपनी आवाज बुलंद कर रही हैं और अपने उपर हुए अत्याचारों पर अपनी बात सबके सामने रख रही हैं।  इस अभियान के तहत कई बड़ी शख्सियतों पर यौन शोषण के आरोप लग रहे हैं। इस कैंपेन की चपेट में राजनेता भी आ गए हैं। पहला आरोप केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री और पूर्व पत्रकार एमजे अकबर पर लगा है। आठ महिला पत्रकारों ने अब तक एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। इन आरोपों के बाद केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर इस्तीफा देने के लिए लगातार दबाव बढ़ रहा हैं।  अकबर आज विदेश दौरे से लौटे हैं। एयरपोर्ट पर जब पत्रकारों ने पूरे मामले पर जवाब मांगा तो उन्होंने चुप्पी साधे रखी. अकबर ने सिर्फ इतना कहा, 'वह बाद में बयान देंगे.' 

बता दें कि बीजेपी के कई नेता अकबर का बचाव कर रहे हैं। हालांकि किसी भी नेता ने खुले मंच पर अभी तक अकबर का बचाव नहीं किया हैं पर इशारों-इशारों में नेता इनके बचाव में कूद रहे हैं। नेताओं का कहना हैं कि उनपर जो भी आरोप लगे हैं वे पुराने हैं, यानि सरकार में शामिल होने के बाद के नहीं है। पूर्व पत्रकार एमजे अकबर 2014 चुनाव से ठीक पहले बीजेपी में शामिल हो गए थे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि उनके (एमजे अकबर) खिलाफ गंभीर आरोप हैं और लगता नहीं कि मंत्री के तौर पर वह लंबे समय तक पद पर रह पाएंगे। उन्होंने कहा कि अंतिम निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेना है।

इससे पहले कल बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने भी एस मामले में कल बयान दिया था। अमित शाह ने कहा कि देखना पड़ेगा, ये सच हैं या गलत. उन्होंने कहा, 'देखना पड़ेगा कि यह सच हैं या गलत. हमें उस शख्स के पोस्ट की सत्यता जांचनी होगी, जिसने आरोप लगाए हैं। मेरा नाम इस्तेमाल करते हुए भी आप कुछ भी लिख सकते हैं.' हालांकि, इस मामले की जांच की जाएगी या नहीं, इस पर उन्होंने कोई ठोस जवाब नहीं दिया। लेकिन शाह ने इतना जरूर कहा कि 'इस पर जरूर सोचेंगे.' 

वहीं इस मामले में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने शुक्रवार को कहा था कि ,‘‘मैं उन सब पर विश्वास करती हूं. मैं प्रत्येक शिकायतकर्ता के दर्द और सदमे को समझती हूं. मैं एक कमेटी के गठन का प्रस्ताव भेज रही हूं . इसमें वरिष्ठ न्यायिक एवं कानूनी अधिकारी सदस्य होंगे. यह कमेटी मी टू अभियान के तहत आये सभी मसलों को देखेगी.’’

कांग्रेस ने उठाए सवाल

यौन शोषण के आरोपो पर जहां अकबर ने बाद में बयान देने की बात कही है तो वहीं कांग्रेस लगातार पीएम मोदी पर सवाल उठा रही हैं। दरअसल ,रविवार को दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने मीटू (#MeToo) कैंपेन के तहत सामने आए एमजे अकबर के खिलाफ यौन शोषण के मामलों पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने इस पर जवाब देते हुए पीएम मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाए। आनंद शर्मा ने कहा कि पीएम मोदी देशवासियों को ये बताएं कि वो ऐसे मामलों पर क्या सोचते हैं। उन्होंने कहा, 'ये सरकार की मर्यादा का सवाल और पीएम पद की गरिमा का भी सवाल है. देश में इतनी बड़ी बहस चल रही है और देश की जनता व महिलाएं इस पर पीएम मोदी की सोच जानना चाहती है और देश ये भी जानना चाहता है कि आप इस पर क्या करेंगे.'

ad